Girna toh kudrat ka neeyam hai..

July 13, 2009 at 4:17 pm | Posted in Unsuccessful Poems | 8 Comments
Tags: , , , ,
गिरना चढ़ना तो कुद्रत का नियम है…
बाज़ार गिरते है,
सरकारें गिरती है,
दाम गिरते हैं,
इज़्ज़त गिरती है,
उमीदें गिर जाती है…
तो एक ‘पुल’ गिर गया तो क्या हो गया?
साथ में कुछ लाशें गिरी होंगी,
कुछ आँसू गिरे होंगे,
कुछ सपने भी गिर के टूट गये होंगे…
फिर ‘आदमी’ तो पहले ही इतना गिरा हुआ है,
थोड़ा और गिर गया तो क्या फ़र्क़ पड़ जाएगा…
फिर गिरना चढ़ना तो कुद्रत का नियम है…

गिरना चढ़ना तो कुदरत का नियम है…

बाज़ार गिरते है

सरकारें गिरती है

दाम गिरते हैं

इज़्ज़त गिरती है

उमीदें गिर जाती है…

तो एक ‘पुल’ गिर गया तो क्या हो गया?

साथ में कुछ लाशें गिरी होंगी

कुछ आँसू गिरे होंगे

कुछ सपने भी गिर के टूट गये होंगे…

फिर ‘आदमी’ तो पहले ही इतना गिरा हुआ है

थोड़ा और गिर गया तो क्या फ़र्क़ पड़ जाएगा…

फिर गिरना चढ़ना तो कुदरत का नियम है…


– मेट्रो हादसे में मारे गए लोगो की याद में



Girna Chadna toh kudrat ka neeyam hai…

Bazaar girte hai,

Sarkarein girti hai,

Daam girte hain,

Izzat girti hai,

Umeedein gir jaati hai…

Toh ek ‘Pul’ gir gaya toh kya ho gaya?

Saath mein kuch laashein giri hongi,

Kuch aansun gire honge,

Kuch sapne bhi gir ke tuut gaye honge…

Phir ‘aadmi’ toh pehle hi itna gira hua hai,

Thoda aur gir gaya toh kya farak pad jayega…

Phir Girna Chadna toh kudrat ka neeyam hai.

(In the memory of those who died in the Metro bridge collapse)


Here is another interesting post which you’ll find revolting: The Gammon India Safety Oath

8 Comments »

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

  1. I like the poem dude…good work!!!

  2. […] Comments da_evil on Retro Moms and Mobile PhonesAakash on Girna toh kudrat ka neeyam hai..Aaj bachche school ja rahein hain… : Hindi Shayari, Sms Shayari, Hindi Sms Jokes, Romantic Sms […]

  3. Great awesome !

  4. kon bola ki ye poem unsuccessful hain?? its very meaningful…. keep it up… *Claps*

    • Thanks for the comment Khushi ji! Unsuccessful because my poems usually don’t make much sense.. 🙂

  5. हाँ, गिरना चढ़ना कुदरत का नियम है, पर इंसान क्यूँ सिर्फ गिरते जा रहा है? रोना आता है कभी कभी मानवता की मौत देखकर.
    तुम बहुत अच्छा लिखते हो, लिखते रहो.

    GBU
    आरती


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


Entries and comments feeds.

%d bloggers like this: